Feb २०, २०२० १३:१४ Asia/Kolkata
  • अमरीका किसी का दोस्त नहीं! अब निकटतम सहयोगी, दक्षिणी कोरिया को दी धमकी! पैसे दो वर्ना ...

वाशिंग्टन ने दक्षिणी कोरिया में अपने सैनिकों का खर्चा उठाने के बारे में पहली बार सियोल को खुल कर धमकी दी है।

कोरियन न्यूज़ एजेन्सी यूनिहाप के अनुसार अमरीका ने अपने घटक दक्षिणी कोरिया को धमकी दी है कि अगर उसने अमरीकी सैनिकों की तैनाती के लिए दी जाने वाली रक़म नहीं बढ़ायी तो वह अपनी छावनियों में कोरियाई कर्मचारियों के बारे में विचार कर सकता है। 

याद रहे दक्षिणी कोरिया में अमरीकी छावनियों में तैनात अमरीकी सैनिकों की सेवा के लिए कम से कम 9 हज़ार दक्षिण कोरियाई कमर्चारी सेवारत हैं और अगर अमरीका अपनी धमकी को व्यवहारिक बनाता है तो यह लोग बेरोज़गार हो जाएंगे। 

अमरीका, दक्षिणी कोरिया में अपनी छावनियों से इसी देश के नागरिकों को बाहर निकालने की धमकी दे रहा है। 

दक्षिणी कोरिया में तैनात अमरीकी सैनिकों के लिए अमरीका को दी जाने वाली राशि के बारे में अमरीका और दक्षिणी कोरिया कई बार वार्ता कर चुके हैं किंतु अभी तक इस समस्या का समाधान नहीं हुआ है। 

अमरीका की ट्रम्प सरकार इस रक़म में भारी वृद्धि की मांग कर रही है। दक्षिणी कोरिया अपने देश में अमरीका के 28 हज़ार 500 सैनिकों की उपस्थिति के लिए 980 मिलयन डॅालर अदा करता है लेकिन अमरीका अब 5  अरब डॅालर मांग रहा है जिसे दक्षिणी कोरिया ने सीमा से अधिक लालच कहा है जिस पर अमरीका ने अब उसे धमकी दे दी है। 

दक्षिणी कोरिया के विदेशमंत्रालय और इस देश की सरकार ने इस बारे में अमरीकी नीति की कई बार आलोचना की है। 

अनुमान है कि आगामी सप्ताहों में दोनों देशों के अधिकारी, वाशिंग्टन में बैठक कर सकते  हैं। 

दक्षिणी कोरिया में जनता अपने देश में अमरीकी सैनिकों की उपस्थिति का  विरोध करती है और कई बार प्रदर्शन भी हो चुके हैं। 

अमरीका अन्य देशों में अपने सैनिक भेज कर उन देशों में हस्तक्षेप और मनमानी करता है और इस उपस्थिति का खर्चा भी उन्ही देशों से लेता है। 

कुछ महीने पहले अमरीका सरकार ने जापान से भी अपने सैनिकों की उपस्थिति के लिए ली जाने वाली रक़म में भारी वृद्धि की मांग की थी। 

जापान में भी अमरीकी सैनिकों की उपस्थिति के खिलाफ प्रदर्शन होते रहते हैं। 

अमरीका दक्षिणी कोरिया और जापान जैसे देशों से अपने सैनिकों की उपस्थिति के लिए भारी रक़म मांगता है जबकि इराक़ से अपने सैनिकों को निकालने के लिए अरबों डॅालर मांग रहा है। 

याद रहे अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भारत की यात्रा करने वाले हैं जहां भारत को अमरीका से बड़े सौदे की आशा है और फिलहाल भारत ने अमरीका से भारी खरीदारी की घोषणा की है। Q.A.

 

टैग्स

कमेंट्स