May १८, २०२० २०:३६ Asia/Kolkata

क़ुद्स इस धरती पर रहने वाले सभी मुसलमानों और इस्लामी जगत का विवेक है, हर वह व्यक्ति जो ज़मीन के इस दर्द का एहसास नहीं करता है वास्तव में वह दीनदार नहीं है। इस वर्ष कोरंटाइन की जटिल स्थिति को देखते हुए शायद दुनिया भर के मुसलमान फ़िलिस्तीन के समर्थन में होने वाली विशाल रैलियों का आयोजन न कर सके, लेकिन क़ुद्स हर मुसलमान के दिल में ज़िन्दा है। जब तक इस पवित्र ज़मीन से ज़ायोनियों को भगा नहीं दिया जाता तब तक फ़िलिस्तीनी राष्ट्र का प्रतिरोध जारी रहेगा।

टैग्स

कमेंट्स