Jun ०१, २०२० २२:२३ Asia/Kolkata
  • डब्लूएचओ अगर चीन पर निर्भरता ख़त्म करे तो उसके बारे में कुछ सोंच सकते हैःअमरीका

अमरीका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को इशारे दिये हैं कि अगर उसकी शर्तों को माना जाए तो वह इस वैश्विक संगठन के साथ आ सकता है।

अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ ब्रायन ने कहा है कि डब्ल्यूएचओ को सुधारों की आवश्यकता है।  उन्होंने कहा कि अगर ऐसा होता है और इस संगठन में व्याप्त भ्रष्टाचार और चीन से संबंध समाप्त होते हैं तो अमेरिका, डब्ल्यूएचओ में शामिल होने पर गंभीरता से विचार करेगा।

कोरोना वायरस को लेकर अबतक विश्व स्वास्थ्य संगठन का विरोध करने वाले और इसकी सदस्यता त्यागने वाले अमेरिका ने अब इस संगठन से दोबारा जुड़ने की बात कही है।  हालांकि व्हाइट हाउस ने शर्त रखी है कि डब्ल्यूएचओ को भ्रष्टाचार दूर करने के साथ ही चीन पर निर्भरता खत्म करनी होगी।

ज्ञात रहे कि हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ पर चीन के इशारे पर चलने का आरोप लगाते हुए इस संगठन के साथ सारे संबंध समाप्त करने का एलान किया था। ट्रंप ने कहा था कि कोरोना से संबंधित अहम जानकारी को चीन, दुनिया से छिपा रहा है।  उन्होंने यह भी कहा था कि इस काम में यह संगठन चीन के साथ है।

उल्लेखनीय है कि अमेरिका पहले ही कह चुका है कि अबतक 45 करोड़ डॉलर की जो राशि डब्ल्यूएचओ को दी जाती थी उसे अब अन्य अंतर्राष्ट्रीय जनस्वास्थ्य संगठनों को दिया जाएगा। रॉबर्ट ने कहा कि चीन, डब्ल्यूएचओ को सालाना केवल चार करोड़ डॉलर देता है जबकि हम अकेले इस संगठन को करीब 45 करोड़ डॉलर देते थे।  उन्होंने कहा कि अब यह सुनिश्चित किया जाएगा कि डब्ल्यूएचओ को दिए जाने वाले 45 करोड़ डॉलर, फ्रंट लाइन स्वास्थ्य कर्मियों को मिलें।

टैग्स

कमेंट्स