Jul २२, २०२० १७:१६ Asia/Kolkata
  • ब्रिटेन में आतंकी हमलों के साथ

मिस्र के अलअज़हर विश्व विद्यालय ने एक बयान जारी करके ब्रिटेन में आतंकी हमलों के साथ "इस्लामी" शब्द न जोड़े जाने के प्रस्ताव का स्वागत किया है।

अलअज़हर ने अपने बयान में कहा है कि ऐसा करने से पश्चिमी समाजों में इस्लामोफ़ोबिया बड़ी हद तक कम हो जाएगा। रशा टूडे की रिपोर्ट के मुताबिक़ ब्रिटेन में मुस्लिम पुलिसकर्मियों के संघ ने सोमवार को प्रस्ताव दिया है कि इस देश में इस्लामोफ़ोबिया को रोकने के लिए आतंकी हमलों के साथ "इस्लामी" शब्द न जोड़ा जाए। संघ ने कहा है कि आतंकवादी हमलों या आतंकी हमला करने वालों के लिए "इस्लामी" या "जेहादी" शब्द प्रयोग करना भेदभावपूर्ण होने के साथ ही पवित्र धर्म इस्लाम का अपमान भी है।

 

ताज़ा आंकड़ों के अनुसार हालिया बरसों में यूरोपीय समाजों में मुसलमानों के साथ घृणा के कारण किए गए अपराधों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है। ब्रिटेन के कुछ मुस्लिम गुटों का कहना है कि इस देश की सरकार इस्लामोफ़ोबिया से संघर्ष का संकल्प ही नहीं रखती। (HN)

 

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

टैग्स

कमेंट्स