Aug २७, २०२० १३:३५ Asia/Kolkata
  • न्यूज़ीलैंड में 2 मस्जिदों पर आतंकवादी हमला करने वाले को इस देश के इतिहास की सबसे बुरी सज़ा सुनाई गयी...

न्यूज़ीलैंड में पिछले साल 2 मस्जिदों पर आतंकवादी हमला करने वाले आतंकी ब्रेंटन टैरेंट को इस देश के इतिहास की सबसे बुरी सज़ा सुनाई गयी है।

इस आतंकी को बिना पेरोल के उम्र क़ैद की सज़ा सुनायी गयी है, जो न्यूज़ीलैंड की तारीख़ में पहली बार किसी अपराधी को ऐसी सज़ा सुनाई गयी है।

15 मार्च 2019 को क्राइसचर्च में दो मस्जिदों पर हुए आतंकी हमले में 51 नमाज़ी शहीद हुए थे। इस हमले को आतंकी ने फ़ेसबुक पर लाइव दिखाया था। आतंकी ब्रेंटन टैरेंट ने 40 हत्याओं और आतंकवादी अपराध को क़ुबूल किया था।

गुरूवार को क्राइसचर्च के हाई कोर्ट में जज कैमरून मेंडर ने कहा कि ब्रेंटन टैरेंट का अपराध इतना घिनौना है कि इसके लिए मुद्दत का तय करना काफ़ी नहीं होगा। जज ने सज़ा सुनाते हुए ब्रेंटन टैरेंट से कहाः तुम्हारा जुर्म इतना घिनौना है कि अगर मरते दम तक तुम्हे जेल में रखा जाए तब भी सज़ा का तक़ाज़ा पूरा नहीं हो सकेगा।

इस फ़ैसले पर न्यूज़ीलैंड की प्रधान मंत्री जसिंडा अडर्न ने संतोष जताया और कहा कि उसे कभी सूरज की रौशनी नसीब नहीं होगी।

अपराधी टैरेंट ने क़ुबूल किया कि उसने जो हमला किया था वह आतंकवादी हमला था।(MAQ/N)

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए!

टैग्स

कमेंट्स