Sep १६, २०२० १८:५७ Asia/Kolkata
  • आईएईए के निदेशक मंडल में यूरोपीय ट्राॅयका का बयान, परमाणु समझौते को बाक़ी रखने पर बल

तीन यूरोपीय देशों ने आईएईए के निदेशक मंडल की बैठक में एक बयान जारी करके परमाणु समझौते को बाक़ी रखने पर बल दिया है और इसी के साथ ईरान पर कुछ घिसे-पिटे आरोप भी लगाए हैं।

फ़्रान्स, ब्रिटेन और जर्मनी ने ईरान के परमाणु कार्यक्रम के सत्यापन व निगरानी के बारे में जारी किए जाने वाले अपने संयुक्त बयान में कहा है कि वे ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते को बाक़ी रखने और उसे पूरी तरह से लागू किए जाने पर कटिबद्ध हैं। इन तीनों देशों ने परमाणु समझौते से अमरीका के निकलने को खेदजनक बताया है और कहा है कि सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव नंबर 2231 के बारे में उनके रुख़ में कोई बदलाव नहीं आया है।

 

यूरोपीय ट्राॅयका ने अपने बयान में ईरान पर पश्चिम की ओर से डाले जा रहे दबाव को नज़र में रखे बिना, जो परमाणु समझौते के विरुद्ध है, इस समझौते के प्रति अपनी कटिबद्धताएं कम करने के ईरान के पांचवें क़दम पर चिंता जताते हुए कहा है कि इससे यूरोनियम के संवर्धन की ईरान की क्षमता बढ़ेगी और हम चाहते हैं कि ईरान यह काम न करे। यूरोप के इन तीन देशों ने 8 मई 2018 को परमाणु समझौते से अमरीका के अवैध रूप से निकल जाने के बाद वादा किया था कि वे ईरान के आर्थिक हितों को सुनिश्चित बना कर इस समझौते की रक्षा करेंगे लेकिन अब तक उन्होंने अपने इस वादे को पूरा करने के लिए कोई व्यवहारिक क़दम नहीं उठाया है। (HN)

 

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स

कमेंट्स