Sep १६, २०२० २१:१२ Asia/Kolkata
  • शहीद जनरल सुलैमानी की हत्या में अमरीका के एक रिटायर्ड जनरल की भूमिका का पर्दा फ़ाश

अमरीका के एक पत्रकार ने अपनी किताब में इस बात का ख़ुलासा किया है कि बुश के राष्ट्रपति काल में अमरीका के डिप्टी ज्वाइंट चीफ़ आफ़ स्टाफ़ रह चुके एक जनरल ने सन 2016 में ट्रम्प के चुनाव जीतने के बाद उनसे शहीद जनरल क़ासिम सुलैमानी के बारे में बात की थी।

अमरीका के मशहूर पत्रकार बाॅब वुडवर्ड ने अपनी नई किताब "रेज" (आक्रोश) में ईरान के इस्लामी क्रांति संरक्षक बल (आईआरजीसी) की क़ुद्स ब्रिगेड के पूर्व कमांडर शहीद जनरल क़ासिम सुलैमानी की हत्या के संबंध में डोनल्ड ट्रम्प के फ़ैसले के बारे में एक नए घटनाक्रम का उल्लेख किया है। इससे पहले समाचारिक सूत्रों ने जनरल सुलैमानी की हत्या के लिए ट्रम्प को तैयार करने में अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो की भूमिका की तरफ़ इशारा किया था लेकिन वुडवर्ड ने अपनी किताब में पहली बार इस संबंध में अमरीका के पूर्व डिप्टी ज्वाइंट चीफ़ आफ़ स्टाफ़ जैक कैन की भूमिका का पर्दा फ़ाश किया है।

 

किताब के अनुसार जब सन 2016 में ट्रम्प राष्ट्रपति चुनाव जीते ही थे, तभी जैक कैन ने उनसे जनरल क़ासिम सुलैमानी के बारे में बात की थी। उन्होंने इसी के साथ जनरल सुलैमानी का मुक़ाबला करने के संबंध में बुश सरकार की कोशिशों, चिंताओं व  भय से भी ट्रम्प को अवगत कराया था। बाॅब वुडवर्ड की किताब "रेज" के अनुसार जैक कैन ने ट्रम्प से कहा था कि जाॅर्ज डब्ल्यू बुश की राष्ट्रीय सुरक्षा टीम ने उनसे तत्कालीन राष्ट्रपति के रूप में ईरान के दो सैन्य अड्डों को तबाह करने की अनुमति मांगी थी जहां जनरल क़ासिम सुलैमानी का ठिकाना बताया जाता था लेकिन बुश ने इसका विरोध किया था। जैक कैन का कहना है कि बुश यह सोचते थे कि अगर उन्होंने ईरान के अंदर सैन्य ठिकानों पर हमला किया तो उनके ख़िलाफ़ महाभियोग चलाया जाएगा। (HN)

 

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स

कमेंट्स