Sep १९, २०२० १०:३१ Asia/Kolkata
  • अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट की जज की मृत्यु के बाद रिपब्लिकन और डेमोक्रेट्स आए आमने-सामने

अमेरिका की सर्वोच्च अदालत के 9 न्यायाधीशों में से एक की मौत के बाद रिपब्लिकन और डेमोक्रेट्स आमने-सामने आ गए हैं। जज की मृत्यु के बाद राष्ट्रपति चुनाव से पहले दोनों पार्टियों के बीच मौजूद टकराव अब अपने चरम पर पहुंच गया है।

फ्रांस की समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक़, शुक्रवार को अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट ने एक बयान जारी करके यह घोषणा की कि देश के सर्वोच्च अदालत के 9 न्यायाधीशों में से एक जस्टिस रुथ जिंस्बर्ग का 87 वर्ष की आयु में कैंसर से वॉशिंग्टन में निधन हो गया है। रुथ जिंस्बर्ग अमेरिका के इतिहास की दूसरी ऐसी महिला थीं जो इस देश के सुप्रीम कोर्ट की जज बनीं थीं। जस्टिस जिंस्बर्ग की मौत ऐसे समय में हुई है कि जब अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेढ़ महीने से भी कम का समय बचा है और यही कारण है कि रिपब्लिकन और डेमोक्रेट्स में तनाव पैदा हो गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, इस बात की आशंका व्यक्त की जा रही है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प रुथ जिंसबर्ग के निधन से सुप्रीम कोर्ट में खाली हुए जज के पद पर किसी कंज़र्वेटिव न्यायाधीश का चयन करके अदालत की सरंचना को रिपब्लिकन और कंज़र्वेटिव के पक्ष में करने का प्रयास करें। ऐसी स्थिति में कि जब ट्रम्प जिंसबर्ग के स्थान पर किसी नाम का एलान करते हैं तो रिपब्लिकन के दबदबे वाली सीनेट अमेरिकी राष्ट्रपति के इस प्रस्ताव चुनाव होने से पहले ही स्वीकार कर लेगी। इस बीच सीनेट में डेमोक्रेट धड़े के प्रमुख चेक शूमर ने एक ट्वीट करके कहा है कि रुथ जिंसबर्ग के निधन से सुप्रीम कोर्ट में खाली हुए न्यायाधीश के पद पर अब चुनाव के बाद जीतकर आने वाले राष्ट्रपति को नियुक्ति करना चाहिए। (RZ)

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

 

टैग्स

कमेंट्स