Sep २४, २०२० २०:३२ Asia/Kolkata
  • चीन के शिनजियांग प्रांत में डिटेंशन कैम्पों की संख्या बढ़कर 380 हो गई है, जहां लाखों वीगर मुसलमानों को बंद करके रखा जाता है

चीन के शिनजियांग राज्य में शांति प्रिय वीगर या उइगर मुसलमानों पर अत्याचारों की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निंदा के बावजूद, चीन की सरकार डिटेंशन कैम्पों की संख्या लगातार बढ़ा रही है।

हालांकि चीन की सरकार का दावा है कि वह इन डिटेंशन कैम्पों में वीगर मुसलमानों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम चला रही है।

ऑस्ट्रेलियन स्ट्रैटेजिक पॉलिसी इंस्टिट्यूट (ASPI) की एक रिसर्च गुरुवार को सामने आई है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि उसने शिनजियांग में 380 डिटेंशन कैम्पों की पहचान की है।

राष्ट्र संघ के अनुसार, इन कैम्पों में तुर्क मूल के 10 लाख से ज़्यादा मुसलमानों को कि जिन्हें वीगर कहा जाता है, प्रताड़ना शिविरों में क़ैद करके रखा जाता है। उन्हें तरह तरह से यातनाएं दी जातीहैं और कारख़ानों में जबरन काम लिया जाता है।

प्राप्त रिपोर्टों के मुताबिक़, पिछले एक दशक से अल्पसंख्यक वीगर मुसलमानों का चीन में व्यवस्थित नरसंहार जारी है। जबकि चीन का दावा है कि यह कैम्प, चरमपंथ विरोधी शिक्षा और प्रशिक्षण के केंद्र हैं, और यहां लोग अपनी मर्ज़ी से आते हैं।

पिछले अनुमानों की तुलना में डिटेंशन कैम्पों की संख्या, लगभग 40 प्रतिशत ज़्यादा है।

नई रिसर्च में जो सच्चाई सामने आई है, वह चीनी अधिकारियों के उन दावों के विपरीत है, जिसमें उन्होंने कहा था कि इन तथाकथित प्रशिक्षण केंद्रों के सभी लोग, 2019 के अंत तक डिग्री लेकर जा चुके हैं।

मुख्य शोधकर्ता नाथन रुसर ने लिखा है कि इसके विपरीत, उपलब्ध साक्ष्यों से पता चलता है कि कई क़ैदियों के ख़िलाफ़ अब औपचारिक रूप से आरोप लगाए जा रहे हैं और उन्हें उच्च सुरक्षा केन्द्रों में बंद कर दिया गया है।

शोधकर्ताओं ने सैटेलाइट इमेजिज़, गवाहों, मीडिया रिपोर्टों और डिटेंशन कैम्पों के ख़ुफ़िया दस्तावेज़ों के आधार पर अपनी यह रिसर्च तैयार की है।

इसमें पाया गया है कि कम से कम 61 नए डिटेंशन कैम्पों का निर्माण हाल ही में हुआ है और उनका विस्तार जारी है।

अमरीका ने हाल ही में इन कैम्पों में तैयार होने वाले उत्पादों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया था। msm

टैग्स

कमेंट्स