Oct ०१, २०२० १४:५० Asia/Kolkata
  • दुनिया में कोरोना वायरस की दूसरी लहर शुरु, वैज्ञानिक और विशेषज्ञ परेशान, दी अहम सलाह

वैज्ञानिकों का कहना है कि संक्रमण के कुल मामलों की संख्या विश्व स्तर पर पुष्टि किए गए तीन करोड़ मामलों की तुलना में कहीं अधिक है।

कई विशेषज्ञों का मानना ​​है कि कोरोना संक्रमित लोगों में से 0.5 प्रतिशत से 1 प्रतिशत तक की मौत हो रही है। शोधकर्ताओं ने आयु वर्ग के अनुसार जोखिम का स्तर खोजा तो पता चलता है कि कम उम्र के लोगों और बच्चों में गंभीर बीमारी की संभावना कम है।

वाशिंगटन विश्वविद्यालय, सिएटल में इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ मैट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन के निदेशक डॉ. क्रिस्टोफर मरे के अनुसार, 20 साल से कम उम्र के प्रति 10 हज़ार मरीज़ों पर एक मौत हुई है जबकि 85 साल की उम्र वाले प्रत्येक छह में से एक मरीज़ की मौत हुई है।

कोरोना वायरस परीक्षण द्वारा पुष्टि किए गए नए संक्रमणों की संख्या के मुकाबले गणना किए जाने पर मृत्यु दर में स्पष्ट गिरावट दिखती है। रॉयटर्स के आंकड़ों के अनुसार, अमरीका जैसी जगहों पर केस फेटेलिटी रेट नाटकीय रूप से कम हुआ है। अप्रैल में यह 6.6 प्रतिशत था जो अगस्त में केवल 2 प्रतिशत रह गया है।

विशेषज्ञों का कहना है कि यह गिरावट महामारी के शुरुआती दिनों की तुलना में बीमारी के हल्के लक्षण या बिना लक्षण वाले लोगों का पता लगाने के लिए अब व्यापक रूप से की जा रही टेस्टिंग के कारण है।

व्यक्तिगत और सरकारी स्तर पर कोरोना से बचने के लिए निरंतर सतर्कता की आवश्यकता है क्योंकि कुछ देशों में संक्रमण की दूसरी लहर आनी शुरू हो चुकी है। (AK)

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स

कमेंट्स