Oct १०, २०२० १९:४१ Asia/Kolkata

मिशीगन की गवर्नर के अपहरण का इरादा रखने वाले ट्रंप के समर्थक हैं

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए होने वाली गतिविधियां जहां ज़ोरों पर हैं वहीं अतिवादी और नस्लभेदी कार्यवाहियों में भी वृद्धि होती जा रही है।

इसी संबंध में अमेरिका की फेडरल पुलिस एफबीआई ने सूचना दी है कि उसने मिशीगन राज्य की गवर्नर Gretchen Whitmer के अपरण की योजना को विफल बना दिया है। FBI के अनुसार मिशीगन राज्य की गवर्नर को वाइट सुपरमेसी के समर्थकों का एक गुट Gretchen Whitmer का अपहरण करना चाहता था परंतु अपहरण से पहले ही उसने अपहरण का इरादा रखने वाले लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

मिशीगन उन राज्यों में से है जो अगले महीने राष्ट्रपति पद के लिए चुनावी रणक्षेत्र बना हुआ है। हालिया महीनों में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मिशीगन राज्य की गवर्नर के खिलाफ अपने शाब्दिक हमलों में वृद्धि कर दी है। एफबीआई की आरंभिक रिपोर्टें इस बात की सूचक हैं कि जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है वे ट्रंप के समर्थक हैं। इसी कारण मिशीगन की गवर्नर ने अपने अपहरण की योजना को विफल बनाये जाने के बाद घोषणा की है कि ट्रंप राजनीतिक अतिवाद को हवा दे रहे हैं और इस मामले में उनका हाथ है। अमेरिका के सुरक्षा और गुप्तचर अधिकारियों के अनुसार अतिवादी गुट इस देश की सुरक्षा के लिए गम्भीर चुनौती हैं। एफबीआई के प्रमुख क्रिस्टोफ़र रेय ने सितंबर में कहा था कि एफबीआई अतिवादी और नस्लभेदी तत्वों के बारे में जांच- पड़ताल कर रही है। सीएनएन ने भी कुछ समय पहले एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी जिसमें कहा गया था कि अपने को श्रेष्ठ समझने वाले गोरे वर्ष 2021 में भी अमेरिका के लिए गम्भीर चुनौती व ख़तरा होंगे।

अलबत्ता अमेरिका में नस्लभेदी गुटों का अस्तित्व इस देश की स्थापना से पहले से है जिन्होंने अमानवीय व्यवस्था की सुरक्षा के लिए अमेरिका में युद्ध की आग भड़कायी और इन गुटों द्वारा भड़काई युद्ध की आग में दसियों हज़ार लोग मारे गये। यह नहीं अमेरिका में होने वाली आंतरिक लड़ाइयों के बाद भी वहां के अतिवादी व नस्लवादी गुटों की हिंसात्मक कार्यवाहियों में हज़ारों लोग मारे गये हैं।

बहरहाल अब यह स्पष्ट हो गया है कि मिशीगन राज्य की गवर्नर पर हमला अतिवादी व नस्लवादी सोच और इस सोच के समर्थक लोगों का काम था और अगर वे लोग मिशगन की गवर्नर के अपहरण में सफल हो जाते तो इस देश में राजनीतिक और अतिवादी गतिविधियों की आग और तीव्र हो जाती।

इसी प्रकार यह संभावना भी पायी जा रही है कि अगर ट्रंप चुनाव हार जाते हैं तो अमेरिका में सशस्त्र लड़ाई भी आरंभ हो सकती है। MM

 

टैग्स