Oct २१, २०२० १६:४८ Asia/Kolkata
  • पेरिस, एफ़िल टॉवर के पास दो मुस्लिम महिलाओं को चाक़ू घोंपकर गंभीर रूप से घायल कर दिया गया

पेरिस में एफ़िल टॉवर के पास स्पष्ट रूप से इस्लामोफ़ोबिक हमले में दो मुस्लिम महिलाओं को चाक़ू घोंपकर गंभीर रूप से घायल कर दिया गया है।

हमलावर दो संदिग्ध महिलाओं को हत्या के प्रयास के आरोप में गिरफ़्तार कर लिया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक़, फ़्रांसीसी मुस्लिम महिलाएं अपने बच्चों के साथ एफ़िल टॉवर के नज़दीक से गुज़र रही थीं, उसी वक़्त कुछ कुत्ते उनकी ओर दौड़े, जब उन्होंने कुत्तों के मालिकों से उन्हें निंयत्रण करने के लिए कहा तो उन्होंने उन पर चाक़ुओं से हमला कर दिया।

मुस्लिम महिलाओं को हमलावर महिलाओं ने कई बार चाक़ू घोंपकर बुरी तरह से ज़ख़्मी कर दिया और उन्हें अपशब्द कहे, तथा नस्लवादी टिप्पणियां करते हुए चिल्लाकर कहाः अपने देश वापस जाओ।

एक पीड़िता को छह बार चाक़ू मारा गया, उसके फेफड़ों में चोट पहुंची है और हाथ घायल हो गए हैं। डॉक्टरों का कहना है कि पीड़िता का ऑप्रेशन करने की ज़रूरत है।

हमलावर महिलाओं को अगर राहगीरों ने नहीं रोका होता, तो पीड़ित महिलाओं की मौक़े पर ही मौत हो सकती थी।

यह भयानक घटना, पेरिस में एक मुस्लिम छात्र द्वारा एक शिक्षक का सिर काटने के क़रीब एक हफ़्ते बाद घटी है।

47वर्षीय इतिहास और भूगोल के शिक्षक सैमुएल पैटी ने अपनी ऑनलाइन क्लाम में अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर, छात्रों को पैग़म्बरे इस्लाम के वह अपमानजनक कार्टून दिखाए थे, जो अभी हाल ही में एक बार फिर शार्ली एब्दो पत्रिका ने प्रकाशित किए थे।

ग़ौरतलब है कि फ़्रांसीसी अधिकारी, चरमपंथ और कट्टरवाद से मुक़ाबले के बहाने लगातार, इस्लाम और मुसलमानों को निशाना बना रहे हैं। फ़्रांसीसी राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रां ने इस्लामोफ़ोबिया को हवा देते हुए हाल ही में कहा था कि केवल फ़्रांस ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में इस्लाम संकट में है। msm

टैग्स

कमेंट्स