Oct २२, २०२० १९:४० Asia/Kolkata
  • युद्ध के मैदान में आर्मेनिया के ख़िलाफ़ अपनी फ़ौज उतारने के लिए तैयार है तुर्की

तुर्की के उप राष्ट्रपति ने कहा है कि उनका देश, आज़रबाइजान के समर्थन में अपनी फ़ौज युद्ध के मैदान में उतारने के लिए तैयार है।

तुर्क उप राष्ट्रपति फ़ुवाद ओकतई ने सीएनएन से बात करते हुए कहाः आज़रबाइजान ने अभी तक सैन्य सहायता की मांग नहीं की है, लेकिन अगर वह हमसे से फ़ौजी मदद मांगते हैं तो हमारी सेना उनकी सहायता के लिए तैयार है।

ओकतई ने आज़रबाइजान और आर्मेनिया के बीच जारी युद्ध में मध्यस्थता करने का प्रयास करने वाले फ़्रांस, रूस और अमरीका के मिंस्क समूह की आलोचना करते हुए कहा, यह समूह आर्मेनिया की राजनीचिक और सामरिक मदद कर रहा है, ताकि नार्गोनो-कराबाख़ के मुद्दे का कोई समाधान नहीं निकल सके।

बुधवार को आर्मेनियाई प्रधान मंत्री ने भी विवादित पर्वतीय क्षेत्र कराबाख़ के कूटनीतिक समाधान को ख़ारिज कर दिया और अपने देश के नागरिकों से आज़रबाइजान के ख़िलाफ़ जारी लड़ाई में भाग लेने की अपील की। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे का कूटनीतिक समाधान इसलिए नहीं निकल सकता, क्योंकि जिस बात पर आर्मेनिया सहमत है, उस पर आज़रबाइजान सहमत नहीं है।

इस बीच, रूस के विदेश मंत्री ने मास्को में आर्मेनिया और आज़रबाइजान के विदेश मंत्रियों से अलग अलग मुलाक़ात करके कराबाख़ में युद्ध विराम के लिए सहमति बनाने का प्रयास किया है।

ग़ौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नागोर्नो-काराबाख़ आज़रबाइजान का भाग माना जाता है, जिस पर पिछले 30 साल से आर्मीनिया ने कब्ज़ा कर रखा है।

तुर्की ने युद्धविराम की मांग को भी रद्द कर दिया है। तुर्की का कहना है कि युद्धविराम तभी संभव है, जब आर्मेनिया विवादित इलाक़े से पर अपना कब्ज़ा ख़त्म कर दे। msm

टैग्स

कमेंट्स