Oct २५, २०२० ०९:२४ Asia/Kolkata
  • मैक्रां ने पैग़म्बरे इस्लाम की शान में की गुस्ताख़ी तो पूरे इस्लामी जगत में फैला आक्रोश

फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रां ने एलान किया कि उनके देश में पैग़म्बरे इस्लाम के अपमान पर आधारित कार्टून बनाने का सिलसिला बंद नहीं होगा जिस पर व्यापक रूप से प्रतिक्रियाओं का क्रम थमने का नाम नहीं ले रहा है।

इस्लामी सहयोग संगठन ओआईसी ने इस बयान की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि फ़्रांस इस्लाम के धार्मिक प्रतीकों पर लगातार हमले करके मुसलमानों की भावनाओं को ठेस पहुंचा रहा है।

संगठन के बयान में कहा गया कि हम फ़्रांसीसी अधिकारियों के बयानों को देख रहे हैं कि वह इस्लामी दुनिया फ़्रांस के संबंधों को नुक़सान पहुंचा रहे हैं और फ़्रांसीसी अधिकारी राजनैतिक फ़ायदा उठाने के चक्कर में नफ़रत फैला रहे हैं।

लेबनान के दारुल फ़तवा ने कहा कि फ़्रांस के राष्ट्रपति मैक्रां ने जिस अपमान औ अनादर का समर्थन किया है उससे राष्ट्रों के बीच नफ़रत फैल रही है। संस्था के महासचिव अमीन अलकुर्दी ने कहा कि स्वतंत्रता के नाम पर पैग़म्बरे इस्लाम का जो अपमान किया जा रहा है उससे राष्ट्रों के बीच नफ़रत की आग भड़केगी और फ्रांसीसी टीचर की हत्या की आलोचना के साथ साथ इस हत्या की वजह की भी निंदा ज़रूर की जानी चाहिए।

कुवैत के संसद सभापति मरज़ूक़ अलग़ानिम ने भी फ़्रांसीसी मीडिया में पैग़म्बरे इस्लाम के कार्टून प्रकाशित किए जाने की कड़ी निदां की। अलग़ानिम ने एक पत्रकार सम्मेलन में कहा कि विश्व भर में धार्मिक प्रतीकों के अपमान पर अंकुश लगाने के लिए कूटनैतिक दायरे में व्यवहारिक क़दम उठाने की ज़रूरत है।

क़तर में छात्रों के स्तर पर अभियान शुरू हो गया कि 25 से 29 अकतूबर तक मनाए जाने वाले क़तर फ़्रांस कल्चरल वीक के कार्यक्रम को रद्द कर दिया जाए जिसके बाद इस कार्यक्रम को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया।

क़तर के शापिंग सेंटर्ज़ से फ़्रांसीसी कंपनियों के उत्पादों को हटाने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। अलजीरिया में भी फ़्रांसीसी राष्ट्रपति के बयान की कड़ी निंदा की जा रही है।

ईरान में भी फ़्रांसीसी मीडिया और सरकार के रवैए की कड़ी निंदा की गई।

इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता ने आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनेई ने एक संदेश जारी करके कहा कि पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम के प्रकाशमान व पवित्र चेहरे के अनादर के संबंध में एक फ़्रान्सीसी पत्रिका के बड़े और अक्षम्य पाप ने एक बार फिर इस्लाम व मुस्लिम समाज से पश्चिमी दुनिया के राजनैतिक व सांस्कृतिक तंत्रों के द्वेष और दुष्टता भरी दुश्मनी को स्पष्ट कर दिया है। उन्होंने कहा है कि इस बड़े अपराध की निंदा न करने के लिए अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का बहाना, जो कुछ फ़्रान्सीसी नेताओं की ओर से पेश किया जा रही है, पूरी तरह से अस्वीकार्य, ग़लत और धूर्ततापूर्ण है।

इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता ने अपने संदेश में कहा है कि ज़ायोनियों और साम्राज्यवादी सरकारों की गहरी इस्लाम विरोधी नीतियां इस प्रकार की शत्रुतापूर्ण कार्यवाहियों का कारण हैं जो हर कुछ समय बाद सामने आ जाती हैं। उन्होंने कहा कि यह कार्यवाही इस समय पश्चिमी एशिया के राष्ट्रों व सरकारों का ध्यान, इस क्षेत्र के लिए अमरीका व ज़ायोनी शासन द्वारा तैयार किए गए शर्मनाक षड्यंत्रों की तरफ़ से हटाने के उद्देश्य से की गई है।

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स

कमेंट्स