Oct २६, २०२० १५:१७ Asia/Kolkata

फ़्रांस के राष्ट्रपति मैक्रां के इस्लाम विरोधी बयान पर विवाद बढ़ गया है, तुर्क राष्ट्रपति अर्दोग़ान ने फिर उन्हें दिमाग़ का चेकअप कराने का मशविरा दिया है जबकि कई इस्लामी देशों में फ़्रांसीसी उत्पादों का बहिष्कार शुरू हो गया है। फ़्रांसीसी विदेश मंत्रालय ने इस्लामी देशों की सरकारों से कहा है कि बहिष्कार न किया जाए!

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने फ़ेसबुक के संस्थापक मार्क ज़ुकरबर्ग को पत्र लिखकर मांग की है कि होलोकास्ट की तरह इस्लामोफ़ोबिया और इस्लाम विरोधी सामग्री फ़ेसबुक पर पोस्ट किए जाने पर भी प्रतिबंध लगाया जाए।

भारत के सत्ताधारी दल भाजपा के वरिष्ठ नेता स्वतंत्र देव सिंह ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाकिस्तान और चीन के साथ जंग के लिए तारीख़ तय कर ली है। यह बयान उन्होंने तब दिया है जब एलएसी पर भारत और चीन के बीच काफ़ी तनाव है और ख़ुद प्रधानमंत्री मोदी बहुत संभल कर बयान दे रहे हैं।

इस्राईल में अमरीका के राजदूत फ़्रेडमैन ने कहा है कि सऊदी अरब ने इस्राईल के साथ अरब देशों के शांति समझौते में बड़ी मदद की है और रियाज़ सरकार इस दिशा में बड़े क़दम उठा चुकी है। उन्होंने कहा कि इन समझौतों से अमरीका पहले से अधिक सुरक्षित हो गया।

रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोफ़ ने कहा कि नगोर्नो काराबाख़ के विवाद का कोई सैनिक समाधान नहीं हो सकता इस मुद्दे में जितने भी प्रभावी पक्ष हैं वह दोनों देशों की भावनाओं को शांत करवाने का प्रयास करें।

चिली में जनता ने चार दशक पुराने संविधान को फिर से लिखे जाने के पक्ष में मतदान किया है। सर्वेक्षण का नतीजा आ जाने के बाद जनता ने सड़कों पर निकल कर ख़ुशियां मनाईं।  

टैग्स

कमेंट्स