Oct ३०, २०२० १८:३२ Asia/Kolkata
  • अफ़ग़ानिस्तान की संसद में उठी फ़्रांस से संबन्ध तोड़ने की मांग, पूरी दुनिया में फ़्रांस विरोधी प्रदर्शन जारी

अफ़ग़ानिस्तान के बहुत से सांसदों ने इस देश की संसद से फ़्रांस के साथ कूटनैतिक संबन्ध तोड़ लेने की मांग की है।

तसनीम समाचार एजेन्सी के अनुसार अफ़ग़ानिस्तान के सांसदों ने संसद की खुली कार्यवाही में कहा है कि फ़्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रां ने पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा (स) का अपमान किया है।

इन सासंदों का कहना था कि अपनी इस कार्यवाही के कारण फ़्रांसीसी राष्ट्रपति को सारे इस्लामी देशों और समस्त मुसलमानों से माफी मांगनी चाहिए।  अफ़ग़ानी सांसदों ने इस देश के राष्ट्रपति मुहम्मद अशरफ़ ग़नी से कहा है कि फ़्रांस के साथ तत्काल कूटनैतिक संबन्ध विच्छेद करने की घोषणा के साथ ही काबुल से फ्रांस के राजदूत को निष्कासित किया जाए और पेरिस से अपने राजदूत को वापस बुलाया जाए।  इन सांसदों ने कहा कि फ़्रांस की ओर से पैग़म्बरे इस्लाम के अनादर पर बहुत ही तीव्र और गंभीर प्रतिक्रिया दी जानी चाहिए।  अफ़ग़ानिस्तान के सांसदों ने कहा है कि हम किसी भी स्थिति में अपने प्रिय पैग़म्बर का अनादर स्वीकार नहीं करेंगे।

इसी बीच अफ़ग़ानिस्तान में आज शुक्रवार को पैग़म्बरे इस्लाम (स) के अनमान के विरोध में व्यापक रैलियां निकाली गईं जिनमे बहुत बड़ी संख्या में लोगों ने भाग लिया।

ज्ञात रहे कि फ़्रांस के राष्ट्रपति की ओर से यह कहे जाने पर कि उनके देश में पैग़म्बरे इस्लाम के अपमानजनक चित्र को प्रसारित किया जाता रहेगा, पूरी दुनिया के मुसलमानों में ग़ुस्सा है और संसार के बहुत से देशों में प्रदर्शन किये जा रहे हैं।  ईरान, तुर्की, पाकिस्तान, मलेशिया और कई देशों ने जहां इसपर तीव्र प्रतिक्रिया दी है वहीं पर लोग फ़्रांसीसी उत्पादों का  बहिष्कार कर रहे हैं।

टैग्स

कमेंट्स