Nov ०९, २०२० २३:२१ Asia/Kolkata
  •  फ़्रांस को

अलअज़हर विश्वविद्यालय के कुलपति ने फ़्रांस से मांग की है कि वह "इस्लामी आतंकवाद" शब्द का का प्रयोग बंद करे।

मिस्र के अलअज़हर विश्वविद्यालय के कुलपति शेख अहमद तय्यब ने कहा है कि इस्लाम के साथ आतंकवाद शब्द को जोड़ा जाना सही नहीं है।  उन्होंने कहा कि इससे मुसलमानों की भावनाओं को ठेस पहुंचता है।

अलअज़हर विश्वविद्यालय के कुलपति शेख अहमद तय्यब ने रविवार को फ़्रांसीसी विदेशमंत्री के साथ भेंट में कहा कि फ़्रांस को "इस्लामी आतंकवाद" शब्द का प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि यह वास्तविकता से मेल नहीं खाता।  उनका कहना था कि जहां इससे मुसलमानों की भावनाओं को ठेस पहुंचता है वहीं पर यह खुले विरोधाभास को दर्शाता है क्योंकि इस्लाम शांति का धर्म है हिंसा का नहीं।

उल्लेखनीय है कि एक फ़्रांसीसी पत्रिका द्वारा अन्तिम ईश्वरीय दूत पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा (स) के अनादर का फ़्रांसीसी राष्ट्रपति की ओर से समर्थन के बाद इसपर इस्लामी जगत से कड़ी प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।  विश्व के बहुत से देशों में फ़्रांसीसी राष्ट्रपति के विरोध में प्रदर्शन किये जा रहे हैं।  बहुत से इस्लामी देशों ने फ़्रांसीसी उत्पादों के बहिष्कार का एलान किया है जिससे उसकी अर्थव्यवस्था को काफ़ी नुक़सान पहुंचा है।

टैग्स