Nov २३, २०२० २१:५६ Asia/Kolkata
  • अपने ही घरों को जला रहे हैं आर्मीनियन, 24 घण्टों का मिला है अल्टीमेटम

क़राबाख़ में रहने वाले आर्मीनियन नागरिक, इस क्षेत्र को छोड़ने से पहले अपने ही घरों को आग लगाकर जा रहे हैं।

क़राबाख़ क्षेत्र को लेकर आज़रबाइजान और आर्मीनिया के बीच होने वाले समझौते के बाद इस क्षेत्र को छोड़ने से पहले यहां पर रहने वाले आर्मीनियन, घरों को जला रहे हैं।  आर्मीनिया के अधिकारियों ने क़राबाख़ क्षेत्र में रहने वाले अर्मनी नागरिकों से इस क्षेत्र को 24 घण्टों के भीतर ख़ाली करने को कहा है।  क़राबाख़ क्षेत्र अब आज़रबाइजान के हवाले किया जाएगा जिसको वह लंबे समय से अपना क्षेत्र कहता आया है।

उल्लेखनीय है कि रूस के राष्ट्रपति व्लादमीर पुतीन, उनके आज़रबाइजानी समकक्ष इलहाम अलीएफ़ और आर्मीनिया के प्रधानमंत्री निकोल पाशीनियान ने कराबाख़ में संघर्ष विराम के लिए संयुक्त एलान पर 10 नवंबर को हस्ताक्षर किये थे।  इस समझौते के हिसाब से क़राबाख़ क्षेत्र को लेकर आर्मीनिया और आज़रबाइजान के सैनिकों के बीच जो झड़पें हुई थीं उसके बाद वे क्षेत्र जो आर्मीनिया के सैनिकों के हाथ लगे थे उनको आज़रबाइजान को वापस किया जाएगा।

इस समझौते के बाद आर्मीनिया के प्रधानमंत्री निकोल पाशीनियान ने कहा था कि इस समझौते की बातें इतनी पीड़ादायक हैं कि उन्हें बयान नहीं किया जा सकता मगर सामरिक स्थिति के गहरे विशलेषण और जानकारों के मूल्यांकन के आधार पर मैंने इसको अपनाने का फ़ैसला किया है। आर्मीनियाई प्रधानमंत्री ने कहा कि यह समझौता इस संतुष्टि के बाद किया गया है कि इससे बेहतर कोई समाधान संभव नहीं था।

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स