Jan २३, २०२१ २१:११ Asia/Kolkata
  • जिस मुद्दे को ट्रम्प ने कभी गंभीरता से नहीं लिया उसे लेकर बाइडेन हुए गंभीर

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन ने 'घरेलू हिंसक चरमपंथ' से निपटने के लिए तीन सूत्री योजना का ऐलान किया है जिसे लागू करने में ट्रम्प लगातार आनाकानी करते रहे।

अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन ने 'घरेलू हिंसक चरमपंथ' से निपटने के लिए तीन सूत्रीय योजना का ऐलान किया है। इस योजना के तहत अमरीका में मौजूद चरमपंथी ताकतों का अंदाजा लगाकर उनके मुक़ाबले की योजना लागू की जाएगी।

व्हाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी जेन पाॅसकी ने कहा है कि घरेलू हिंसक चरमपंथ, राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक गंभीर खतरा है जो लगातार बढ़ रहा है।  उन्होंने कहा कि आवश्यक संसाधनों और संकल्प के साथ बाइडन प्रशासन इसका मुकाबला करेगा। पाॅस्की का कहना था कि बाइडन प्रशासन तथ्यों के आधार पर नीतियां और रणनीति बनाएगा और ऐसा करते हुए संवैधानिक रूप में मिली अभिव्यक्ति तथा राजनीतिक गतिविधियों की स्वतंत्रता का पूरा सम्मान किया जाएगा।

घोषित योजना के अनुसार चरमपंथी नेटवर्कों का मुकाबला और उन्हें प्रभावहीन करने की क्षमता विकसित करने की जिम्मदारी राष्ट्रपति की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद को दी जाएगी।  अमरीका के गृह सुरक्षा सलाहकार एलिजाबेथ शेरवुड-रैंडल ने राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के पूर्व आतंकवाद विरोधी निदेशक जोशुआ गेल्टजर से इस मामले की पड़ताल करने को कहा है। उन्हें 100 दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट देने को कहा गया है।

इस बीच वेबसाइट प्रोपब्लिका डाॅट कॉम ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि पिछले दो वर्षों के दौरान अमेरिका में आतंकवाद विरोधी अधिकारियों और इस काम से जुड़े यूरोपीय अधिकारियों के बीच कई बैठकें हुई हैं। इस दौरान धुर दक्षिणपंथी आतंकवादी गुटों की दुनिया भर में बढ़ रही ताकत पर चर्चा हुई।

याद रहे कि 6 जनवरी 2021 को वाशिग्टन डीसी में कैपिटल हिल अर्थात संसद भवन पर अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों के धावा बोलने के बाद से अमेरिका में राजनीतिक चरमपंथ के मुद्दे पर चर्चा तेज़ हो गई है।

टैग्स