Jan २६, २०२१ १८:१९ Asia/Kolkata
  • दक्षिणी चीन सागर में तनाव चरम पर...अभ्यास के लिए बीजिंग की तैयारी...ताइवान ने दिखाई अपनी हवाई ताक़त

चीन ने मंगलवार को एलान किया है कि वह दक्षिणी चीन सागर में इसी सप्ताह सैन्य अभ्यास करेगा।

यह अभ्यास एसे समय किया जा रहा है कि जब अमरीका के साथ चीन का तनाव चरम सीमा पर है क्योंकि हाल ही में अमरीका के विमान वाहक पोत विवादित जलक्षेत्र में घुसे हैं।

चीन के समुद्री संरक्षण विभाग ने अभ्यास की तैयारी के तहत 27 से 30 जनवरी तक टोनकिन खाड़ी के जलक्षेत्र में नौकाओं के प्रवेश पर रोक लगा दी है।

अमरीकी सेना ने एलान किया था कि थ्योडर रोज़वेल्ट के नेतृत्व वाला समुद्री बेड़ा गत शनिवार को दक्षिणी चीन सागर में प्रविष्ट हुआ है। अमरीकी सेना का कहना है कि आज़ाद नैवीगेशन के समर्थन के लिए अमरीका ने यह क़दम उठाया है।

अब यह विवादित जलक्षेत्र अमरीका और चीन के बीच गंभीर तनाव का नया मुद्दा बना हुआ है। हालिया वर्षों में अमरीका ने इस इलाक़े में अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। इन जलक्षेत्रों में चीन का वियतनाम, मलेशिया, फ़िलीपीन, ब्रुन्नई और ताइवान से विवाद है।

सोमवार को चीन ने शिकायत की है कि अमरीका लगातार जहाज़ और युद्धक नौकाएं दक्षिणी चीन सागर के इलाक़े में भेज रहा है जो अंतर्राष्ट्रीय व्यापार का प्रमुख मार्ग है और इस इलाक़े में वह ताक़त का प्रदर्शन करता है जो क्षेत्र की शांति व स्थिरता के लिए सहायक नहीं है।

चीन की संसद ने गत शुक्रवार को एक क़ानून पास किया है जिसके तहत तट रक्षक फ़ोर्स को बाहरी जहाज़ों पर ज़रूरत के अनुसार फ़ायरिंग की अनुमति दे दी गई है।

क़ानून में कहा गया है कि अगर विदेशी जहाज़ या नागरिक देश की संप्रभुता का हनन करने वाला कोई क़दम उठाएं तो तट रक्षक फ़ोर्स को हथियार के इस्तेमाल सहित सारे उपायों को आज़माने की अनुमति है।

इस बीच ताइवान की वायु सेना ने अपनी हवाई ताक़त दिखाई है। चीन के दर्जनों युद्धक विमानों के उड़ान भरने की घटना के बाद ताइवान ने जवाब में अपने युद्धक विमानों की ताक़त दिखाई है।

 

टैग्स