Mar ०५, २०२१ ०२:४३ Asia/Kolkata
  • यूरोपीय देशों ने बदला पैंतरा, सुर में आया बदलाव, कहा हम तो परमाणु समझौते के प्रति वचनबद्ध हैं!

परमाणु समझौते के सदस्य तीनों यूरोपीय देशों ने घोषणा की है कि वे पूरी तरह समझौते के प्रति कटिबद्ध हैं।

समाचार एजेन्सी फ्रांस प्रेस ने रिपोर्ट दी है कि ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी ने गुरुवार की रात एक विज्ञप्ति जारी की जिसमें ईरान और परमाणु ऊर्जा की अंतर्राष्ट्रीय एजेन्सी IAEA के बीच होने वाली हालिया सहमति की ओर संकेत करते हुए इन देशों ने कहा है कि इस सहमति के आधार पर हम सबने ईरान के खिलाफ़ प्रस्ताव को रोक लेने का फैसला किया।

तीनों यूरोपीय देशों ने घोषणा की है कि वे पूरी तरह परमाणु समझौते के प्रति कटिबद्ध हैं और अगर यह समझौता व्यवहारिक हो जाये तो इसमें समस्त पक्षों के सुरक्षा हित निहित हैं। इन देशों ने अपनी विज्ञप्ति में ईरान की ओर से अपनी परमाणु प्रतिबद्धता में कमी के प्रति चिंता जताई है।

ज्ञात रहे कि 8 मई 2018 को अमेरिका एक पक्षीय रूप से परमाणु समझौते से निकल गया था और उसके बाद उसने ईरान के खिलाफ नये प्रतिबंध लगाने के अलावा उन प्रतिबंधों को भी बहाल कर दिया जिन्हें स्थिगित किया गया था।

अमेरिका द्वारा ग़ैर कानूनी रूप से परमाणु समझौते से निकल जाने के एक वर्ष बाद तक ईरान पूरी तरह परमाणु समझौते पर अमल करता रहा और यूरोपीय देशों ने कहा था कि अमेरिका के परमाणु समझौते से निकल जाने की वजह से ईरान को जो क्षति होगी हम उसकी भरपाई करेंगे लेकिन उसके बाद वे टाल-मटोल करते रहे और उन्होंने परमाणु समझौते में रहकर वही काम किया जो अमेरिका ने परमाणु समझौते से निकल जाने के बाद किया था। यही वजह है कि बहुत से जानकार हल्के अमेरिका और यूरोप को एक ही सिक्के के दो रुख़ मानते हैं।  MM

टैग्स