Mar ०८, २०२१ २२:५६ Asia/Kolkata
  • तालेबान की सरकार गिराने वाले ही आज, तालेबान की सरकार बनवाने में हैं व्यस्त

अमरीका ने अफ़ग़ानिस्तान को तालेबान से मुक्ति दिलाने के नामपर इस देश पर हमला किया था। आज वही अमरीका, अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान की सरकार के गठन की मांग कर रहा है।

अफ़ग़ानिस्तान के उप राष्ट्रपति ने अमरीका की मांग का कड़ाई से विरोध करते हुए कहा है कि हम झुकने वाले नहीं हैं।  अमरुल्लाह सालेह का कहना है कि हम अमरीका की अवैध मांगों के समाने सिर नहीं झुकाएंगे।  उन्होंने कहा कि हम अमरीकी आदेश का पालन नहीं करेंगे और इसका मुक़ाबला करेंगे।

अफ़ग़ानिस्तान के उप राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने यह बात अमरीकी विदेशमंत्री के उस पत्र पर प्रतिक्रिया स्वरूप कही है जो एंटोनी ब्लिंकन ने अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति को भेजा है।  सालेह का कहना है कि हमको अपने राष्ट्रीय हितों के आधार पर देश के नागरिकों के भविष्य निर्धारण का पूरा अधिकार है।  अफ़ग़ानिस्तान के उप राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह का कहना है कि वे किसी ही एसे समझौते पर हस्ताक्षर नहीं करेंगे जो अफ़ग़ानिस्तान की जनता के हित में न हो।

याद रहे कि अमरीका के विदेशमंत्री एंटोनी ब्लिंकन ने अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी को एक धमकी भरा पत्र भेजा है।  अमरीका की ओर से भेजे गए इस पत्र में कहा गया है कि अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी को, अमरीका की ओर से पेश की गई उस योजना को स्वीकार करना होगा जिसके अन्तर्गत या तो वे इस देश में एक अंतरिम सरकार के गठन पर सहमति बनाएं या फिर तालेबान के साथ गठबंधन करके अपनी सरकार का संचालन करें।

इस पत्र में यह भी कहा गया है कि अफ़ग़ानिस्तान की स्थिति लगातार ख़राब होती जा रही है एसे में इस देश के राष्ट्रपति के पास अमरीकी योजना का समर्थन करने के अतिरिक्त कोई दूसरा मार्ग नहीं बचता है।

टैग्स