Apr १०, २०२१ १८:४० Asia/Kolkata
  • म्यांमार को नो-फ़्लाई ज़ोन बनाने की यूएन में उठी मांग, रात से सुबह तक फ़ौज ने 60 लोगों को जान से मारा

म्यांमार में सेना के हाथों प्रदर्शन कर रहे लोगों की हत्या के बीच, यूएन सेक्युरिटी काउंसिल में म्यांमार के दूत कया मोए तुन ने नो-फ़्लाई ज़ोन की मांग की है।

उधर यांगोन के बाहर बागो डिविजन में रात से लेकर शनिवार की सुबह तक कम से कम 60 नागरिक मारे गए।

म्यांमार के दूत ने ऐसी हालत में यूएन से अपने देश के ऊपर नो फ़्लाई ज़ोन की मांग की है, जब अंतर्राष्ट्रीय समुदाय म्यांमार में प्रजातंत्र को वापस लाने और घातक दमन को रोकने के लिए सैन्य सरकार पर दबाव बढ़ा रहा है।

अमरीका और योरोपीय देशों ने शुक्रवार की बैठक में यूएन सेक्युरिटी काउंसिल से कार्यवाही की अपील की, जहां इस संकट पर दक्षिण एशियाई शिखर सम्मेलन की तय्यारी चल रही थी, लेकिन म्यांमार का सैन्य नेतृत्व अड़ा हुआ है और उसने यूएन के दूत को दाख़िल होने से मना कर दिया है।

यूएन में म्यांमार के दूत कया मोए तुन ने जो 1 फ़रवरी के सैन्य विद्रोह को ख़ारिज और सेना के, उनके म्यांमार का प्रतिनिधि न होने के दावे को नज़रअंदाज़ कर चुके हैं, सुरक्षा परिषद से कहा कि बच्चों सहित सैकड़ों लोगों की मौत के बावजूद, अभी तक पर्याप्त व मज़बूत कार्यवाही नहीं हुयी।

उन्होंने कहाः “मुझे यक़ीन है कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ख़ास तौर पर यूएन सेक्युरिटी काउंसिल, म्यांमार में इसी तरह अत्याचार जारी रहने नहीं देगी।  आपकी ओर से सामूहिक कार्यवाही की तुरंत ज़रूरत है।”

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स