May ०८, २०२१ १८:०६ Asia/Kolkata
  • क्या ड्रैगन धीरे-धीरे पूरे भूटान को निगल लेगा? चीन ने पड़ोसी देश की सीमा में बसा दिया एक नया गांव

चीन ने तिब्बत में एक नया गांव ग्यालफ़ुग बसाने की घोषणा की है।

अप्रैल 2020 में तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र (टीएआर) की कम्युनिस्ट पार्टी के सचिव वू यिंगजी ने नए गांव का दौरा करने के लिए 14,000 फ़ीट से अधिक ऊंचे दो दर्रों की यात्रा की।

फ़ॉरेन पॉलिसी की रिपोर्ट के मुताबिक़, चीनी और तिब्बती मीडिया ने यिंगजी की इस यात्रा का प्रसारण किया, लेकिन इस बात का उल्लेख नहीं किया कि यह गांव तिब्बत में नहीं, बल्कि भूटान की सीमा में स्थित है।

ग्यालफ़ुग भूटान में स्थित है। यिंगजी, चीनी अधिकारियों और पत्रकारों के एक समूह ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पार की थी। हालांकि वे 1980 के दशक से चीन द्वारा दावा किए गए 232 वर्ग मील के क्षेत्र में थे, लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसे उत्तरी भूटान के लुंटसे ज़िले के हिस्से के रूप में मान्यता दी गई है।

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर और ऐतिहासिक रूप से भूटान के समझे जाने वाले क्षेत्र में चीनी अधिकारी और सैनिक ख़ामोशी से सैन्य बुनियादी ढांचे का निर्माण करने और गांव बसाने का जश्न मना रहे थे।

सूत्रों का कहना है कि यह नया निर्माण, चीनी राष्ट्रपति शी जिन-पिंग की 2017 की नई सीमा नीति का हिस्सा है, जिसके बाद से उसके पड़ोसी देश भारत से भी रिश्तों में तनाव उभर कर सामने आया है।

पिछले क़रीब एक साल से लद्दाख़ की सीमाओं पर चीन का भारत के साथ तनाव जारी है और भारत उस पर अपने कई इलाक़ों को हड़पने का आरोप लगा रहा है।

हालांकि चीन ने ऐसे सभी आरोपों से इनकार किया है और उसका कहना है कि वह सिर्फ़ अपनी सीमाओं को सुरक्षित बना रहा है और उसकी किसी भी पड़ोसी देश के इलाक़े पर क़ब्ज़ा करने की मंशा नहीं है। msm

टैग्स